कंप्यूटर कैसे कार्य करता है | How Does Computer work?

3
623

computer kaise kam karta hai

कंप्यूटर क्या है |What is a computer?

दोस्तों कम्प्युटर क्या है (What is a computer)दुनिया में शायद ही कोई ऐस पढ़ा-लिखा व्यक्ति होगा. जिसने कम्प्युटर का नाम न सुना हो ज़्यादातर लोग कम्प्युटर को एक ऐसी मशीन मानते हैं. जो सब कुछ कर सकती है. हालांकि यह कहना तो सही नहीं होगा कि कम्प्युटर  सब कुछ कर सकता है, परन्तु इसमें कोई शक नहीं कि वह बहुत कुछ कर सकता है और वह भी बहुत तेजी से तथा सही- सही यही कारण है कि दुनिया में कंप्यूटरों की संख्या बढ़ती हो जा रही है. इस post मे मै आपको बताऊँगा की कम्प्युटर असल में क्या है, वह क्या-क्या काम कर सकता है और उसके द्वारा काम किस प्रकार कराए जाते हैं.

सबसे पहले तो यह समझना जरूरी है कि कम्प्युटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जैसे कि Electronic कैलकुलेटर होते हैं. कैलकुलेटरों पर हम जोड़ना, घटाना आदि Mathmatics क्रियाए करते हैं, जबकि कम्प्युटर पर इन क्रियाओं के अलावा भी बहुत से काम करते या कराते हैं. इन कामों को Data Processing कहा जाता है. डाटा प्रोसेसिंग को समझने के लिए डाटा को समझना जरूरी है

डाटा (Data)

what is data

किसी वस्तु के बारे में किसी तथ्य(सच्चाई , हकीकत) या जानकारी को डाटा’ कहा जाता है. Example के लिए, जिस पेन से हम लिखते  हैं, उसके बारे में कई जानकारियां दी जा सकती हैं, जैसे पेन का वजन, उसका रंग, उसकी लम्बाई, उसकी कीमत ,बनाने वाली कम्पनी का नाम आदि. इसी प्रकार किसी विद्यार्थी (Students) के बारे में ये बातें जानी जा सकती हैं जैसे  नाम, रोल नं, जन्मतिथि, पिता का नाम, कक्षा, लिए गए विषय, घर का पता आदि. ये सभी बातें डाटा के उदाहरण हैं.

डाटा मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं Numeric और Alphanumeric अंको (Digits) से बने हुए डाटा को Numeric डाटा कहा जाता है, जैसे रोल नं, लम्बाई, प्राप्तांक, मूल वेतन। Numeric डाटा में हम केवल 0, 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8 तथा 9 इन दस अंकों का प्रयोग करते हैं और इनके साथ दशमलव बिन्द (.), धन (+) और ऋण (-) चिहों का भी प्रयोग कर सकते हैं.

जोड़ना, घटाना, गुणा भाग देना आदि Mathmatics work केवल Numeric डाटा पर की जा सकती हैं. Alphanumeric डाटा उस डाटा को जाता है जिसमें अक्षरों तथा अंकों सहित किसी भी चिह का प्रयोग किया जा सकता है, जैसे घर का पता, किसी का शीर्षक, कोई पत्र या लेख, किसी कम्पनी का नाम आदि. चिह्हात्मक डाटा पर जोड़ना, घटाना आदि  नहीं किया जा सकता , लेकिन हम उनकी जांच या तुलना (Comparison) कर सकते हैं. इतेमाल के मुताबिक डाटा और भी प्रकार के भी होते हैं, जिनके बारे में आपको आगे बताएँगे, Computer में सभी प्रकार के डाटा को पढ़ा जा सकता है, उसे स्टोर किया जा सकता है और छापा जा सकता है

 Computer vs Human Being

difference between computer vs human being

कंप्यूटर के बहुत से कामों को देखकर आप सोचते होंगे कि इनमें बुद्धि होती होगी, लेकिन असल में कम्प्युटर  में एक छोटे कीड़े के बराबर भी बुद्धि नहीं होती. वह केवल दिए गए आदेशों का पालन करता है. इतने से ही वह बहुत से काम कर लेता है. हमें उससे छोटे से छोटा काम कराने के लिए भी पूरे आदेश देने पड़ते हैं. बिना आदेश दिए वह कुछ नहीं कर सकता.

यदि हमारे दिए गए आदेश सही होंगे, तो काम भी सही-सही होगा और अगर आदेश गलत होंगे, तो काम भी गलत हो जाएगा. कंप्यूटर को सही आदेश देना और उससे बड़े-बडे काम करा लेना भी एक कला है। कंप्युटर के काम करने के तरीके की comparison हम खुद अपने काम करने के तरीके से कर सकते हैं. हम अपने कानों से सुनकर और आंखों से देखकर कोई बात समझते हैं, अपने दिमाग से उस पर सोचते हैं और उसे याद  रखते हैं और अपने हाथ-पैर या मुंह से उसका Answer देते हैं यानी अमल करते हैं. कंप्यूटर भी लगभग इसी तरह काम करता है.

अपनी इनपुट यूनिट से वह डाटा और आदेश लेता है, मैमोरी में उन्हें स्टोर करता है, प्रेरसर पर उनका पालन करता है और आउटपुट यूनिट पर Result दे देता है. लेकिन  मनुष्य और कम्प्युटर में से बड़ा अंतर ये है कि हमारे काम करने की Speed बहुत कम होती है, जबकि कंप्यूटर के काम करने की Speed बहुत तेज होती है. इसीलिए हिसाब-किताब का जो काम हम घंटों में कर पाते हैं, कंप्पुटर उसे कुछ ही सेकेंड में कर डालता है और थकता भी नही |

Computer vs Calculator

difference between computer vs calculator

कुछ लोग Computer को एक अच्छी Quality का Calculator ही समझते है. ऐसा सोचना सही नहीं है. Calculator में हम केवल जोड़ना , घटाना , गुणा कराना ,  भाग देना आदि गणित की क्रियाएँ ही कर सकते हैं लेकिन Computer में हम इससे  कहीं ज्यादा काम कर सकते हैं, दूसरी बात Calculator इमारे डाटा को Store कर  के नहीं रख सकता, जबकि Computer मे डाटा का भण्डार रखा जा सकता है, तीसरी और बसे Important बात यह है कि calculator हमारे आदेशों को याद नहीं रख सकता, जितनी बार भी हमे जोड़ने को क्रिया करनी हो, उतनी ही बार हमें + वाला बटन दबाना पडता है. लेकिन कंप्पूटर में हम अपने ढेर सारे आदेश (Program) भर सकते हैं और Automatic तरीके से उनका पालन करा सकते हैं.

Computer vs Typewriter

बहुत से लोग कंप्यूटर को टाइपराइटर का बड़ा भाई या कोई छोटी-मोटी प्रिंटिंग मशीन ही मानते हैं. यह बात भी सही नहीं है. टाइपराइटर में हम एक बार टाइप करके अधिक से अधिक एक पेज छपवा स्कते हैं , जिसकी 4 या 5 कार्बन कापी भी निकल सकती हैं. लेकिन Computer में हम एक बार में सैकडों पन्नों की रिपोर्ट छपवा सकते हैं और उसे दोबारा टाइप किए बिना जितनी बार चाहें उतनी बार छपवाया जा सकता है. इससे भी बड़ी बात यह है कि Computer में हम किसी रिपोर्ट में अपनी इच्छा से कैसा भी सुधार करके उसे फिर से छपवा सकते हैं. यह काम टाइपराइटर में कभी  नहीं किया जा सकता.

कंप्यूटर के गुण (Characteristics of Computer)

अब तक आप कंप्यूटर के बहुत से गुणों के बारे में जान गए होंगे. इन्हीं गुणों के कारण कंप्यूटर आजकल मनुष्य का सबसे बड़ा और विश्वास करने योग्य मित्र बन गया है. उसके कुछ मुख्य गुण इस प्रकार हैं किसी भी काम को बहुत तेज Speed से करना, जो और जितना काम बताया जाए वह और उतना ही काम करना, हर काम को पूरी तरह सही-सही करना, अपनी ओर से कोई भूल या गलती न करना, अपना काम बिना रुके बिना किसी मदद के करते रहना, आंकडों के भंडार को कम जगह में संग्रह करके रखना तथा आवश्यकता पड़ने पर उन्हें बड़ी ही आसानी से तुरन्त उपलब्ध कराना आदि.

कंप्यूटर कैसे कार्य करता है? (How does Computer Work?)

Computer कोई भी काम अपने आप नहीं करता, बल्कि हमारे निर्देश पर किसी प्रोग्राम के अनुसार ही कार्य करता है प्रत्येक प्रोग्राम को कोई कार्य करने के लिए इनपुट डाटा की ज़रूरत होती है. हम इनपुट साधनों जैसे Keyborad, Mouse, Scanner आदि के द्वारा अपना इनपुट डाटा तथा प्रोग्राम कम्प्युटर , को देते हैं या भेजते हैं.

कंप्यूटर की CPU अथवा Processor द्वारा हमारे दिए गए आदेशों अर्थात प्रोग्राम का पालन किया जाता है. यह प्रोग्राम इस तरह से लिखा होता है कि उसका ठीक-ठीक पालन करने से कोई काम पूरा हो जाता है प्रोग्राम का पालन पूरा हो जाने पर अथवा बीच में ही प्रोग्राम का Result अर्थात आउटपुट (Output) किस आउटपुट साधन जैसे Screen या Printer पर भेज दिया जाता है, जिसे हम देख तथा पढ़ सकते हैं.

Input Device

Keyboard
Bar Code Reader
Mouse
Microphone
Scanner

Output Device वह होता है जो डाटा को सिस्टम से बाहर भेजता है

Monitor

Printer

Speaker

Conclusion:

दोस्तों उम्मीद है की आपको कम्प्युटर से Related यह पोस्ट पसंद आई होगी आज हमने इस पोस्ट मे बताया है की कम्प्युटर क्या होता है और उसके गुण क्या हैं दोस्तों बहुत से लोग कम्प्युटर Vs Human जानना चाहते हैं हमने उसको भी उसके इलावा और भी जानकारी इस पोस्ट मे दी है आप Comment कर के ज़रूर बताएं की आपको कैसी लगी |

Also Read: Youtube Channel kaise banaye

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here